जिसका फ़रीज़ा तयम्मुम हो क्या वह इमामे जमाअत हो सकता है?

जिसका फ़रीज़ा तयम्मुम हो क्या वह इमामे जमाअत हो सकता है?

जवाब

बिस्मिल्लाहिर रहमानिर रहीम

जिस इंसान की ज़िम्मेदारी तयम्मुम थी अगर उसका उज़्र (मजबूरी) बाक़ी है और नमाज़ का वक़्त हो गया है तो वह उसी तयम्मुम के साथ नमाज़ पढ़ा सकता है.

इस्तेफ़्ता'आत आयतुल्लाह ख़ामेनईसवाल न. 204 

सवाल जवाब तयम्मुम आयतुल्लाह सीस्तानी 


अगर आप हमारे जवाब से संतुष्ट हैंं तो कृप्या लाइक कीजिए।
0
شیئر کیجئے